The smart Trick of Reprogram Subconscious Mind That No One is Discussing






"Seriously insightful. Blasts the notion that subconscious action is rocket science. Tells us that even though we might be not be in overall control of our subconscious, certainly each individual guy can observe influencing his mind in the positive. "..." far more MA Miriam Alvarez

As always, I welcome your remarks and look ahead to hearing about the positive effects you reach in utilizing these approaches.

Learn more about EquiSync’s brainwave powered meditation process by way of our users most frequently questioned thoughts (FAQ). Quite beneficial.

चैतन्य की बातें सुनकर सुमति नयी दुविधा में पड़ गयी. उसकी नयी यादें उसे बता रही थी कि सचमुच वो और चैतन्य अच्छे दोस्त थे. और वो उसकी आँखों में देखते रह गयी.

“डिंग डोंग”, दरवाज़े की घंटी एक बार और बजी. “उफ़ ये घंटी तो मेरी जान ही लेकर रहेगी आज. मेरे सास-ससुर इतने जल्दी न आ गए हो. मैं तो अब तक तैयार भी नहीं हुई हूँ.”, सुमति ने सोचा. “रोहित, ज़रा देखना तो कौन आया है… मैं तैयार हो रही हूँ.

नमते आंटी! आइये आइये आप ही का इंतज़ार था”, सुमति अपने भाई रोहित की आवाज़ सुन रही थी. आखिर सुमति के सास-ससुर आ ही गए थे. उसने झट से अपने बालो को पीछे बाँधा और उनसे मिलने के लिए बाहर जाने को तैयार हो गयी. “मुझे जल्दी करनी होगी. वरना उन्हें अच्छा नहीं लगेगा कि उनकी होने वाली बहु उनके स्वागत के लिए बाहर तक नहीं आई. पर क्या मुझे यह फिक्र करनी चाहिए? एक औरत को तैयार होने में हमेशा से ज्यादा समय लगता है.. ये तो वो भी जानते होंगे.”, सुमति यह सब सोचते हुए अपने पल्लू और अपनी साड़ी को एक बार ठीक करते हुए पल्लू को हाथ में पकडे बाहर के कमरे की ओर जाने लगी. उसने अपने हाथों से पल्लू को पीठ पर से अपने दांये कंधे पर से सामने खिंच कर ले आई ताकि उसके स्तन और ब्लाउज को छुपा सके. सुमति एक पारंपरिक स्त्री की तरह महसूस कर रही थी इस वक़्त. उसने एक बार चलते हुए खुद को आईने में देखा. “साड़ी तो ठीक लग रही है. शायद रोहित और चैतन्य की तरह मेरे सास-ससुर को भी याद न होगा कि मैं कभी लड़का थी.

An affirmation is something that you talk to affirm it when a mantra is a phrase that you simply speak again and again.

Affirmations in New Considered and New Age terminology refer largely on the follow of optimistic wondering and self a empowerment - a belief that a optimistic mental Mind-set supported by affirmations will obtain achievements in anything at all. Additional especially, an affirmation is a diligently formatted statement that needs to be repeated to one's self and composed down often. For affirmations to generally be productive, it is claimed which they must be current tense, positive, particular and specific. Its genuine that affirmation combined with meditation, may result in a happy daily life. The challenge is usually that almost all of the individuals are not aware of some great benefits of affirmations and meditation. A 2009 analyze located that beneficial affirmation experienced a small, positive impact on people with substantial self-esteem esteem.

“डिंग डोंग”, दरवाज़े की घंटी बजी. “लो लोग आना शुरू भी हो गए. मैं तो अब तक तैयार भी नहीं हुई हूँ”, सुमति ने खुद से कहा. वो तुरंत दरवाज़े की ओर दौड़ पड़ी और साथ ही साथ अपने पल्लू को अपने कंधे पर पिन लगाने लगी.

वैसे भी सुमति और अंजलि दोनों साड़ी पहनने में एक्सपर्ट थी. अंजलि ने जल्दी से एक हलकी हरी रंग की साड़ी पसंद की जो थोड़ी अधिक फैंसी थी पर फिर भी सुमति के लिए आसान रहेगी सँभालने को. अंजलि ने सुमति के तन पर जल्दी से उस सुन्दर सी साड़ी को लपेटना शुरू की, और सुमति अपना ब्लाउज बदल रही थी. फिर अंजलि ने सुमति की प्लेट बनाने में मदद की और पिन लगाने लगी ताकि साड़ी खुलने का डर ही न रहे!

आखिर इस शांतिपूर्ण नीति को सफल बनाने न होते देख मैंने एक नयी युक्ति सोची। एक रोज मैं अपने साथ अपने शैतान बुलडाग टामी को भी लेता गया। जब शाम हो गयी और वह मेरे धैर्य का नाश करने वाली फूलों से आंचल भरकर अपने घर की ओर चली तो मैंने अपने बुलडाग को धीरे से इशारा कर दिया। बुलडाग उसकी तरफ़ बाज की तरफ झपटा, फूलमती ने एक चीख मारी, दो-चार कदम दौड़ी और जमीन पर गिर पड़ी। अब मैं छड़ी हिलाता, बुलडाग की तरफ गुस्से-भरी आंखों से देखता और हांय-हांय चिल्लाता हुआ दौड़ा और उसे जोर से दो-तीन डंडे लगाये। फिर मैंने बिखरे हुए फूलों को समेटा, सहमी हुई औरत का हाथ पकड़कर बिठा दिया और बहुत लज्जित और दुखी भाव से बोला—यह कितना बड़ा बदमाश है, अब इसे अपने साथ कभी read more नहीं लाऊंगा। तुम्हें इसने काट तो नहीं लिया?

सुमति को वो यादें आने लगी जब वो रक्षाबंधन के त्यौहार पर रोहित को राखी बांधती थी. पर वो तो कभी रोहित की बहन थी ही नहीं.

“मेरे भाई… शहर की ज़िन्दगी के हिसाब से सभी को ढलना पड़ता है. चल अब अन्दर आ जा.”, सुमति ने कहा. उसे और कुछ जवाब देने को न सुझा.

सुमति अब और कोई नए सरप्राइज के लिए तैयार नहीं थी. पर फिर भी दरवाज़ा तो खोलना ही था. चलते हुए उसे एहसास हुआ कि अब उसके स्तन झूल नहीं रहे है, ब्रा पहनना आखिर काम आया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *